लाइफस्टाइल

Chickenpox: भारत में आया चिकनपॉक्स का नया संस्करण, बचना है, तो इन लक्षणों को समझें

Chickenpox: चिकनपॉक्स वायरस की बीमारी एक बार भारत में बहुत तेज़ी से फैली। चौंकाने वाली खबर यह है कि हाल ही में वैज्ञानिकों ने भारत में इस घातक चिकनपॉक्स का एक नया संस्करण खोजा है। बताया जा रहा है कि क्लिनिकल लैब में एक संदिग्ध मंकीपॉक्स प्रभावित व्यक्ति के नमूने का विश्लेषण करते समय चिकनपॉक्स के इस प्रकार की पहचान की गई है। चिकनपॉक्स के इस प्रकार को क्लैड 9 के नाम से जाना जा रहा है।

बताया जा रहा है कि वेरीसेला ज़ोस्टर वायरस से फैला यह विकार भारत से पहले अमेरिका, ब्रिटेन और जर्मनी जैसे देशों में फैल चुका है। जब से चिकनपॉक्स की यह नई किस्म भारत में फैली है, तब से स्वास्थ्य विशेषज्ञ इसकी रोकथाम और उपचार के बारे में सतर्क रहने की अपील कर रहे थे। आपको बता दें कि चिकनपॉक्स का वायरस खांसने और छींकने से भी फैलता है। ऐसे में संक्रमित मरीजों के संपर्क में आने से भी इंसान इस वायरस का शिकार हो रहे हैं। आइए आपको बताते हैं कि चिकनपॉक्स के नए वेरिएंट यानी क्लैड 9 के लक्षण क्या हैं।

चिकनपॉक्स संस्करण क्लैड 9 के संभावित लक्षण और लक्षण

डॉक्टर का कहना है कि चिकनपॉक्स वायरस के इस नए प्रकार यानी क्लैड के संपर्क में आने के बाद बीमारी के लक्षण तुरंत नजर नहीं आते हैं। प्रभावित व्यक्ति के शरीर में चिकनपॉक्स के लक्षण दिखने में कम से कम 3 सप्ताह का समय लगता है। सबसे पहले, शरीर पर, विशेषकर छाती और चेहरे पर चकत्ते पड़ने लगते हैं। इसके बाद पूरे शरीर में दाने और दाने होने लगते हैं। ये चकत्ते छोटे और पानी से भरे होते हैं और इनमें खुजली भी होती है। इससे पहले प्रभावित व्यक्ति को बुखार होता है। इस दौरान शरीर में दर्द और सिरदर्द की शिकायत भी होती है। प्रभावित व्यक्ति की खाने की इच्छा कम हो जाती है और वह हर समय थका हुआ और असुरक्षित महसूस करने लगता है। अगर किसी व्यक्ति के साथ ऐसा हो रहा है तो उसे बिना किसी देरी के तुरंत डॉक्टरी जांच करानी चाहिए।

चिकनपॉक्स वैरिएंट क्लैड 9 को कैसे रोकें

आपको बचाने का सबसे अच्छा तरीका है टीका लगवाना। इसके अलावा साफ-सफाई रखना भी जरूरी है। खाना खाने या बनाने से पहले हाथ धोएं। खांसते और छींकते समय अपने आप को ढक लें। शरीर में लक्षण दिखते ही डॉक्टर से संपर्क करें और शरीर में पानी की कमी न होने दें।

Latest News

To Top