Connect with us

Lifestyle

यह खास चीज आपके लिए बहुत उपयोगी है। यह कई बीमारियों से राहत देगा

Published

on

Advertisement
Advertisement
Advertisement

मिट्टी की कई किस्में हैं जैसे काली, लाल, पीला, जलोढ़ और बाद की मिट्टी। वे सभी विभिन्न क्षेत्रों में पाए जाते हैं और इन सभी मिट्टी में अलग-अलग गुण होते हैं। यदि हम काली मिट्टी के बारे में बात करते हैं, तो यह सबसे अधिक उपजाऊ है और मालवा प्लेटों में पाया जाता है। काली मिट्टी, चिकनी मिट्टी, जिसे कपास की मिट्टी या लावा मिट्टी भी कहा जाता है। यह औषधीय मूल्यों से समृद्ध है। प्राचीन काल से, भूमि का उपयोग कई समस्याओं के लिए एक प्राकृतिक उपचार के रूप में किया गया है। आयुर्वेद में, मिट्टी लगाने से कई बीमारियों का इलाज होता है।

इसके पीछे मान्यता यह है कि हमारा शरीर पांच तत्वों से बना है, जिनमें से एक मिट्टी है। मिट्टी से कई पोषक तत्व अनाज के माध्यम से हमारे शरीर में पहुंचते हैं और शरीर के विकास में मदद करते हैं। इसी तरह काली मिट्टी के भी अपने फायदे हैं, यह आयुर्वेद में स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। काले रंग के कारण लोहे में काली मिट्टी अधिक होती है। आयरन शरीर में रक्त बनाने की प्रक्रिया में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। ऐसे मामलो मे, हीमोग्लोबिन की कमी वाले लोगों के लिए, काली मिट्टी का उपचार लाभदायक हो सकता है। काली मिट्टी शरीर के कई प्रकार के दर्द से राहत दिला सकती है।

यह शरीर की गंदगी को सोख लेता है और ठंडा करके काम करता है। इसमें मौजूद तत्व त्वचा के लिए भी फायदेमंद होते हैं। काली मिट्टी का उपयोग आंखों की जलन से राहत दिलाता है। साफ पानी से थोड़ी देर के लिए आंखों पर काली मिट्टी रखें। इसके बाद धो लें, इससे आंखों की जलन दूर होती है और ठंडक मिलती है। काली मिट्टी का दस्त, ऐंठन और दस्त जैसी पेट की बीमारियों के लिए किया जा सकता है।

गोलियों पर काली मिट्टी की पट्टी बांधना फायदेमंद है। यह पट्टी गठिया के लिए भी बहुत उपयोगी है। मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द से भी छुटकारा पाया जा सकता है। गर्भाशय दोष की रोकथाम भी एक लाभकारी ब्लैक बैंड है, लेकिन ध्यान रखें कि श्रोणि पर काली मिट्टी की पट्टियों का उपयोग हमेशा गर्भवती महिलाओं में समान प्रभाव नहीं करता है। ऐसे मामलो मे, गर्भावस्था के दौरान समस्या होने पर चिकित्सा उपचार लेना बेहतर होता है।

Advertisement
Advertisement