Astro Gyan: जानिए रुद्राक्ष धारण करने के ये अद्भुत लाभ

Date:

सनातन धर्म रुद्राक्ष शब्द से जुड़ा है। रुद्राक्ष रुद्राक्ष के पेड़ और बीज दोनों को दिया गया नाम है। रुद्राक्ष संस्कृत में रुद्राक्ष फल और रुद्राक्ष वृक्ष दोनों को संदर्भित करता है। नेपाल, इंडोनेशिया, जावा, सुमात्रा और बर्मा सभी में पहाड़ और पहाड़ी स्थान हैं जहाँ रुद्राक्ष का पेड़ फलता-फूलता है। इसमें खट्टे स्वाद वाले हरे पत्ते और भूरे रंग के फल होते हैं। रुद्राक्ष के फलों का उपयोग अक्सर लोगों को उनके आध्यात्मिक महत्व के कारण सुशोभित करने के लिए किया जाता है। प्राचीन भारतीय ग्रंथों के अनुसार रुद्राक्ष की उत्पत्ति महादेव के नेत्रों से हुई मानी जाती है। महादेव रुद्र हैं, और अक्ष अक्ष है। रुद्राक्ष की उत्पत्ति को शिव पुराण में महादेव के आंसू के रूप में चित्रित किया गया है। सभी मनुष्यों के कल्याण के लिए कई वर्षों के ध्यान के बाद, जब महादेव ने अपनी आँखें खोलीं, तो आँसू गिरे और धरती माँ ने रुद्राक्ष के पेड़ों को जन्म दिया।

रुद्राक्ष शारीरिक शक्ति को बढ़ाता है, जो बीमारियों से लड़ने और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ाने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार रुद्राक्ष शरीर को मजबूत बनाता है। यह दूषित पदार्थों के खून को साफ करता है। यह मानव शरीर के भीतर और बाहर दोनों जगह कीटाणुओं को मारता है। रुद्राक्ष का उपयोग सिरदर्द, खांसी, लकवा, उच्च रक्तचाप और हृदय रोग के इलाज के लिए किया जाता है।

लंबे समय तक एक ही रुद्राक्ष को धारण करने से चेहरे पर गुलाबी चमक आती है, जिससे पहनने वाला शांत और आकर्षक दिखाई देता है। रुद्राक्ष की माला से जप किया जाता है। नामजप से आध्यात्मिक शक्ति और जीवन में आगे बढ़ने की क्षमता में विश्वास पैदा होता है। नतीजतन, रुद्राक्ष के बीज शारीरिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य दोनों के लिए फायदेमंद होते हैं।

.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Popular

More like this

close